निकाय चुनाव के भितरघातियों पर कारवाई करेगी भाजपा, जिलाध्यक्षों से रिपोर्ट मांगी

0
166
निकाय चुनाव के भितरघातियों

निकाय चुनाव के भितरघातियों पर भाजपा कारवाई करने का मन बना चुकी है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने जिलाध्यक्षों से पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ भितरघात करने वालों की सूची तैयार कर भेजने को कहा है जबकि जिलाध्यक्ष यह सूची प्रत्याशियों की मंत्रणा से तैयार करेंगे।
स्थानीय निकाय चुनाव में भाजपा प्रत्याशी जहां भी हारे हैं वहां विरोधियों की वजह से नहीं बल्कि अपनी वजह से हारे हैं या फिर अपनों की वजह से हारे हैं। भाजपा प्रदेश नेतृत्व ने अपने क्षेत्र के विधायकों या पूर्व विधायकों व पदाधिकारियों को अपने अपने क्षेत्र के उम्मीदवारों को जिताने के लिए जिम्मेदारी सौंपी थी। लेकिन जहां भी भाजपा निकाय चुनाव में हारी है वहां कारण पार्टी पदाधिकारियों व पार्टी नेताओं के द्वारा पार्टी प्रत्याशी का विरोध ही रहा है। अगर स्थानीय स्तर पर बात की जाए तो बदायूं, बिसौली व बजीरगंज में भाजपा प्रत्याशियों के चुनाव हारने वजह भी पार्टी पदाधिकारियों व नेताओं मे द्वारा पार्टी के अधिकृत उम्मीदवार का विरोध करना ही रहा है।

READ MORE ==नगर पंचायत बजीरगंज: मुलाजिम को नीचा दिखाया तो पलट दिया तख्त्तो ताज

इस तरह से पार्टी पदाधिकारियों, विधायकों व पूर्व विधायकों द्वारा पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के विरोध की खबरें पार्टी के शीर्ष नेतृत्व तक भी पहुंच गई हैं। इसी कारण से भाजपा के प्रदेश के शीर्ष नेतृत्व ने पार्टी के सभी जिलाध्यक्षों से भाजपा प्रत्याशियों के खिलाफ विधायकों, पूर्व विधायकों के साथ साथ पार्टी पदाधिकारियों की भूमिका के संबंध में रिपोर्ट तलब की है। जिलाध्यक्ष अब निकाय चुनाव के भितरघातियों यह रिपोर्ट पार्टी प्रत्याशियों की मंत्रणा से  तैयार करेंगे। अगर ईमानदारी से रिपोर्ट चली जाती है, और पार्टी पदाधिकारियों के खिलाफ कारवाई होती है तो इस समस्या से भविष्य में सुधार मिल सकती है। यहां गौरतलब है कि विधानसभा चुनावों में भी कई पार्टी पदाधिकारियों ने पार्टी प्रत्याशियों का खुला विरोध किया था। बदायूं जनपद में भी ऐसा हुआ था जिस कारण से कई प्रत्याशी चुनाव हारे थे। नेतृत्व की मांग पर विरोध करने वालों की सूची भी बनी थी लेकिन आज तक कोई कारवाई नहीं होने से इस तरह गद्दारी करने वालों के हौसले बढ गए और निकाय चुनाव में खुलकर पार्टी प्रत्याशी का विरोध कर दिया। जिस कारण से पार्टी प्रत्याशी चुनाव हार गए।

READ MORE ==विधानसभा चुनाव के गद्दारों पर होती कारवाई तो भाजपा ज्यादा सुरक्षित होती

(Visited 979 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here