ब्राहमण होगा बदायूं से भाजपा एमएलसी प्रत्याशी : भाजपा सूत्र

0
1269
भाजपा उम्मीदवारों की पहली

स्थानीय निकाय एमएलसी चुनाव को लेकर सरगर्मियां बहुत तेज हैं टिकिट को लेकर भी कवायद अंतिम दौर में है कई प्रत्याशी सत्ताधारी भाजपा का टिकिट पाने की जुगत में लखनऊ व दिल्ली के चक्कर काट रहे हैं। जबकि भाजपा ने स्पष्ट कर दिया है कि हाल ही में विधानसभा चुनाव हारे प्रत्याशी एमएलसी प्रत्याशी नहीं होंगे। अगर सूत्रों की मानें तो भाजपा ने बदायूं में ब्राहमण को एमएलसी टिकिट देने का मन बनाया है।आज 15 मार्च से नामांकन प्रक्रिया प्रारम्भ होने वाली है।
यहां बता दें कि वैसे तो जिलाध्यक्ष राजीव गुप्ता, पूर्व सांसद प्रत्याशी बागीश पाठक, जिला सहकारी बैंक चेयरमेन ठा. उमेश सिंह राठौर, पूर्व एमलएसी जितेंद्र यादव, शैलेष पाठक, डीके भारद्वाज, हरीओम पाराशरी, सीकू भैया समेत कई नाम चर्चा में माने जा रहे थे। लेकिन अब अचानक ही सुनने में आया है कि भाजपा शीर्ष नेतृत्व ने बदायूं में ब्राहमण को ही अपना टिकिट देने का मन बनाया है इसलिए उमेश सिंह राठौर व जिलाध्यक्ष राजीव गुप्ता स्वयं ही पीछे चले गए हैं। जबकि डीके भारद्वाज सहसवान विधानसभा से हारे हुए प्रत्याशी हैं इसलिए उनका दावा भी लगभग समाप्त ही माना जा रहा है। पार्टी सूत्रों के अनुसार केवल तीन नाम ही शेष बचे हैं जिन पर विचार किया जा रहा है। उनमें वागीश पाठक, हरीओम पाराशरी व शैलेश पाठक का प्रमुख नाम है। चंूकि वागीश पाठक लम्बे समय से भाजपा से जुडे हुए हैं उनके पिता प्रेमस्वरूप पाठक भी दो बार जिलाध्यक्ष रह चुके हैं जबकि उनके भाई शारदेन्दु पाठक वर्तमान जिला कार्यकारिणी में जिला महासचिव हैं। इधर हरिओम पाराशरी पहले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के स्वंय सेवक रहे हैं इसके बाद से अपना पूरा राजनैतिक जीवन भाजपा के साथ ही गुजारा है। इस विधानसभा चुनाव में पाराशरी ने कडी मेहनत करने के साथ ही कई ब्राहमण नेताओं को भाजपा संगठन से जोडने में अहम भूमिका निभाई थी। पाराशरी युवा मोर्चा के जिलाध्यक्ष रह चुके है व वर्तमान में बृज प्रदेश की प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य हैं। हरिओम पाराशरी वर्ष 2004 व 2010 में पार्टी में एमएलसी चुनाव के लिए प्रयास रत रहे थे। लेकिन संगठन की कुछ मजबूरियों के कारण उस समय उन्हें टिकिट नहीं मिल सका था। अब इस समय उनकी दावेदारी भी प्रबल मानी जा रही है। वैसे सोशल मीडिया पर भी हरीओम पाराशरी के लिए ब्राहमणों ने अभियान चलाया हुआ है। जबकि शैलेश पाठक हाल ही में भाजपा में शामिल हुए हैं वह दातागंज क्षेत्र के कद्दावर ब्रहमण नेता माने जाते हैं। उनकी भी दावेदारी किसी से कमजोर नहीं आंकी जा सकती है। अब यह तो आने वाला कल ही बताएगा कि टिकिट किसको मिलता है लेकिन टिकिट ब्राहमण नेता को ही मिलेगा यह लगभग तय हो चुका है।

(Visited 811 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here