राजस्थान मुख्यमंत्री के पुत्र पर धोखाधडी की एफआईआर दर्ज

0
570

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत के खिलाफ महाराष्ट्र के नासिक में धोखाधडी की रिपोर्ट दर्ज की गई है। दर्ज एफआईआर मंे यह धोखाधडी ई टायलेट के ठेके के नाम पर की गई है। इस रिपोर्ट में वैभव गहलोत के साथ 15 अन्य लोगों को भी आरोपी बनाया गया है।
सुशील पाटिल नाम के व्यक्ति ने दर्ज एफआईआर में कहा है कि यह बात वर्ष 2018 की है जब सचिन वलरे नाम के गुजरात कांगे्रस के कार्यकर्ता ने सुशील पाटिल से कहा कि वह राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को जानता है एवं उनका करीबी है। इसलिए वह राजस्थान में ठेकों का प्रबंधन देखता है। इसने पाटिल को सरकारी अनुबंध करने वाली एक निजी कंपनी में पार्टनर बनाने का आफर दिया। जिसमें अच्छा रिटर्न होगा। इस आश्वासन पर सुशील पाटिल ने 6.80 करोड रू का इंवेस्टमेंट कर दिया। इस निवेश के बदले पाटिल को रिटर्न आना शुरू हो गया। कुछ समय बाद अचानक ही यह रिटर्न बंद हो गया। जब रिटर्न बंद को गया तब सुशील ने सचिन वलरे व उस टीम के सदस्यांे से संपर्क किया। इसके बाद सुशील पाटिल व वैभव गहलोत के खिलाफ एक वीडियो काल हुई। इस बात पर वैभव गहलोत ने रिटर्न वापसी का आश्वासन दिया। लेकिन कोई रिटर्न नहीं आया। बार बार के गलत आश्वासन के बाद सुशील पाटिल ने नासिक के गंगापुर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई है। इस मामले में राजस्थान व गुजरात के कुल 16 लोग आरोपी हैं। इसके साथ ही सुशील पाटिल ने अपनी सरुक्षा की मांग भी राज्य सरकार से की है। पाटिल का कहना है कि इस मामले के आरोपी बेहद ही ताकतवर लोग हैं। मेरे साथ कोई भी कुछ भी कर सकते हैं। मुझे अपनी जान माल का डर है। इधर वैभव गहलोत ने आरोपों का पूरी तरह से इंकार किया है। उन्होंने कहा है कि मेरा इस सबसे कोई किसी तरह का संबंध नहीं है।

(Visited 69 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here