अखिलेश को झटका दे सकते हैं चचा शिवपाल

0
634

अखिलेश यादव से नाराज चल रहे शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी को कोई बडा झटका दे सकते हैं। इसके लिए शिवपाल यादव ने अपने दिल्ली प्रवास के दौरान दो बार गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात का समय मांगा था लेकिन समय नहीं मिल पाया इसे राजनैतिक गलियारों में अलग समीकरण के रूप में देखा जा रहा है।
यहंा बता दें कि समाजवादी पार्टी विधायक दल की बैठक मे ंना बुलाए जाने से शिवपाल यादव नाराज चल रहे हैं। शिवपाल यादव का कहना है कि वह समाजवादी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लडे हैं इसलिए वह सपा के विधायक हैं जब सपा के विधायक हैं तब उन्हें समाजवादी पार्टी विधायक दल की बैठक में ना बुलाया जाना गलत है। इधर समाजवादी पार्टी ने कहा कि शिवपाल यादव भले ही समाजवादी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर चुनाव लडे हैं लेकिन वह प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और वह समाजवादी पार्टी के सहयोगी दल हैं। इसलिए जब समाजवादी पार्टी के सहयोगी दलों की बैठक में बुलाया जाएगा। इसके साथ ही सपा के सहयोगी दलों की 28 मार्च को हुई बैठक में बुलाया भी गया था। लेकिन शिवपाल यादव नहीं पहुंचे।
यहंा बता दंे कि शिवपाल यादव नाराज होकर दिल्ली चले गए थे जहां वह मुलायम सिंह यादव से मिले थे। सूत्र बताते हैं कि इसी समय शिवपाल यादव ने भाजपा नेता व गृहमंत्री अमित शाह से मिलने का समय मांगा था लेकिन शिवपाल यादव को किसी कारणवश मुलाकात का समय नहीं मिल पाया था। उनके इस कृत्य को राजनैतिक लोग किसी बडे समीकरण की ओर इशारा समझ रहे हैं।
शिवपाल की इस नाराजगी की पुष्टि इस बात से भी हो रही है कि 28 मार्च को हुई समाजवादी पार्टी सहयोगी दलों की बैठक में शिवपाल यादव को बुलावा भेजा गया था लेकिन वह नहीं पहुंचे थे। उनके इस बैठक मे ंना पहुचना नाराजगी दर्शा रहा है। इसके साथ ही शिवपाल यादव ने अभी तक विधानसभा में विधायक पद की शपथ भी नहीं ली है। सहयोगी दलों की बैठक में शामिल ना होना, विधानसभा में शपथ ग्रहण ना करना व भाजपा नेता व गृहमंत्री से मिलने का समय मांगने को लोग मान रहे हैं कि शिवपाल यादव समाजवादी पार्टी को कोई बडा झटका दे सकते हैं। यदि ऐसा हुआ तो सपा के लिए यह बडी कमजोरी साबित होगी। अखिलेश यादव के छोटे भाई की पत्नी अपर्णा यादव पहले ही समाजवादी पार्टी छोडकर भाजपा में शामिल हो चुकी हैं।

(Visited 197 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here