बरेली जेल में रची गई थी उमेश पाल की हत्या की साजिश, अशरफ निकला मास्टरमाइंड

0
135
बरेली जेल में रची

बरेली जेल में रची गई थी उमेश पाल की हत्या की साजिश अतीक का भाई अशरफ इस हत्या का असली मास्टरमाइंड निकला है। जिसके सबूत भी पुलिस को मिले हैं। बरेली जेल के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज के आधार पर हुई पूंछतांछ में इस घटना का खुलासा हुआ है।
यहां बता दें कि प्रयागराज के बहुचर्चित उमेश पाल हत्याकांड के मामले में पुलिस ने अतीक अहमद के भाई बरेली जेल में बंद अशरफ को मुख्य आरोपी बताया है। इस बात का खुलासा सीसीटीवी फुटेज व गिरफ्तार हुए आरोपियों से पूंछतांछ में इसकी जानकारी हुई है। हत्या से 13 दिन पहले हत्या में शामिल 9 शूटर अशरफ से मिलने बरेली जेल आए थे। इन्होंने ही यहां से जाकर हत्या को अंजाम दिया था। उमेश पाल विधायक राजू पाल की हत्या का गवाह था।

READ MORE ==बदायूं थाने में होली, शराब, गाना और फिर मारपीट, वीडियो वायरल

इस पूंछतांछ में यह भी पता लगा है कि हत्या होने से लगभग डेढ से दो महीने पहले से इस हत्या की साजिश बरेली जेल में रची जा रही थी। जानकारी यह भी मिली है कि जेल अधिकारियों से मिली भगत के बाद यह शूटर अशरफ से मिलने आते थे। इसके बाद उमेश की रेकी कराई गई थी। रेकी के बाद पूरी रिपोर्ट अशरफ को दी गई थी। अतीक व अशरफ की सोच थी कि उमेश पाल इस मामले का इकलौता गवाह है इस गवाह यदि यह मारा जाता है तब हम लोग बेदाग बच जाऐंगे। इसी कारण से बरेली जेल में साजिश रचकर उमेश पाल की हत्या कराई गई थी। जेल के सिपाही शिवहरि एवं कैंटीन में फल व सब्जी पहुंचाने वाला दयाराम उर्फ नन्हें राशिद और फुरकान इस मामले में सूचनाओं का आदान प्रदान करने व मोबाइल के व्हाटसअप के जरिए अशरफ की बात कराने वाले पहले ही पुलिस की पकड में आने के बाद जेल जा चुके हैं।

READ MORE ==बिसौली नगर में एसपी देहात व इंस्पेक्टर संजीव शुक्ला ने किया पैदल फ्लैग मार्च

(Visited 329 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here