पब्जी खेलने से रोकने पर किशोर ने मां को 6 गोलियां मारीं, मौत

0
374

बच्चों की मनः स्थिति कितनी खराब होती जा रही है कि एक मां ने जब अपने बच्चे को पब्जी गेम खेलने से रोका तब लडके ने मां की गोली मारकर हत्या कर दी। कई दिन बाद बदबू आने पर स्वयं ही पिता को फोन कर हत्या की बात स्वीकार की।
यहां बता दें कि यूपी की राजधानी लखनऊ में यमुनापुरी इलाके में रहने वाले नवीन कुमार सिंह सेना में जूनियर कमीशंड अधिकारी हैं। इस समय व पश्चिम बंगाल में पोस्टिड हैं। प्रसिद्ध अखबार दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार परिवार मेें पत्नी साधना 40 साल एक बेटा 16 साल व एक 10 साल की बेटी है। मंगलवार को लडके ने फोन कर अपने पिता नवीन कुमार सिंह को बताया कि उसने गोली मारकर मां की हत्या कर दी है। इसके बाद नवीन ने अपने एक रिश्तेदार को घर पर भेजा जब रिश्तेदार ने जाकर देखा तब उसके पांव तले की जमीन खिसक गई उसने देखा कि लाश सड चुकी है व बदबू दे रही है। उसने तत्काल पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया। किशोर को बाल सुधार गृह भेज दिया है जबकि बेटी को पिता नवीन कुमार सिंह को सौंप दिया है।

Read More ====अवैध कब्जा: एसडीएम बिसौली का निर्देश नहीं माना, डीएम को भेजी रिपोर्ट

पुलिस ने बताया कि किशोर के अनुसार उसकी मां उसे पब्जी गेम खेलने को रोकती थी। वह इस बात से नाराज रहता था। घटना वाली रात को भी मां ने किशोर को जबरन रोकने का प्रयास किया था व डांटा था। किशोर इस बात से बुरी तरह से चिढ गया था। रात को लगभग 2 बजे जिस समय मां साधना गहरी नींद में सो रही थी। तभी किशोर ने अपने पिता की अलमारी में रखी रिवाल्वर निकाल ली। इस रिवाल्वर में छह गोलियां थी। इस किशोर ने छह की छह गोलियां अपनी मां के सीने में उतार दीं। इस घटना को किशोर की 10 वर्षीय छोटी बहन ने देखा जिससे वह बुरी तरह से सहम गई थी। जब बहन ने रोने व चीखने का प्रयास किया तब किशोर ने बहन को घमका दिया जिससे वह अपनी मां के शव के पास ही बैठी रही जब लाश सडने लगी व बदबू देने लगी तब किशोर ने अपने पिता को फोन कर जानकारी दी। पुलिस को लाश के बराबर ही पिस्टल भी मिल गई पिस्टल की पूरी मैगजीन खाली थी। पुलिस ने बताया कि पहले तो किशोर ने बात को गुमराह किया जब पुलिस ने कडाई से पूंछतांछ की तब किशोर ने हत्या की पूरी कहाना बयान कर दी।

Read More ====बदायूं के युवक की सीता माता पर अभद्र टिप्पणी पुलिस ने नहीं की कारवाई

(Visited 807 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here