थाना बिसौली: प्रेमिका से मिलने गए युवक का सात दिन बाद भी सुराग नहीं परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

0
384

एक सप्ताह पहले प्रेमिका से मिलने गए युवक का सात दिन बाद भी कोई सुराग नहीं मिल सका है पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज करने के बजाए गुमशुदगी दर्ज की है युवक के पिता ने पुत्र की हत्या की आशंका जताई है।
यूपी के जनपद बदायूं के थाना बिसौली के ग्राम कोट का एक युवक दिनेश कुमार को 10 मई को उसकी प्रेमिका जो कि बिल्सी थाना क्षेत्र की निवासी बताई जाती है ने फोन कर बुलाया था। युवक दिनेश के पिता का आरोप है कि जिस लडकी ने फोन किया था व कहा था कि घर वाले उसकी शादी कर रहे हैं तुम आ जाओ लडकी के दबाव बनाने पर युवक दिनेश प्रेमिका से मिलने चला गया। इसके बाद से दिनेश लापता है। प्रेमिका ने उसी दिन रात में प्रेमी के पिता को अपने फोन से कई बार फोन भी किया था। लेकिन फोन पर बात नहीं हो सकी। इसके बाद सुबह को जब दिनेश घर नहीं आया तब पिता ने दिनेंश को लगातार फोन किए लेकिन दिनेश के फोन की घंटी बजती रही और फोन पर किसी ने बात नहीं की।

Read More =====ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण: हिन्दू पक्ष का आरोप डीएम वाराणसी ने वुजूखाने में फिर से पानी भरवाया

इसके कुछ समय बाद दिनेश का फोन बंद हो गया। बंद फोन होने के कारण परिजन परेशान हुए तब उन्होंने इधर उधर भी प्रयास किया। जहां भी जानकारी कर सकते थे जानकारी की लेकिन दिनेश का कहीं से कोई सुराग नहीं मिला। इसके बाद युवके के पिता रवेंद्र पाल ने थाना बिसौली में तहरीर दी तब पहले तो पुलिस ने तहरीर लेने से ही इंकार कर दिया। बाद में पुलिस ने मामले की एफआईआर दर्ज करने बजाए गुमशुदगी दर्ज कर ली। दिनेश के पिता रवेंद्र का आरोप है कि मैंने अपनी तहरीर में उस फोन नंबर को भी लिखा था जिस नंबर से मेरे बेटे को फोन आया था इसके साथ ही उस गांव का भी पूरा जिक्र किया था जिस गांव की वो लडकी रहने वाली है। लेकिन पुलिस ने अभी तक कोई कारवाई नहीं की हैं। पुलिस द्वारा करवाई ना करने से दिनेश का पिता बेहद परेशान है उसका कहना है कि मेरे बेटे का फोन बंद है। उसका कोई सुराग नहीं मिल रहा है मुझे लग रहा कि किसी ने उसकी हत्या ना कर दी हो। पुलिस अगर सजगता दिखाए तो हो सकता है कि उसका पुत्र जीवित मिल जाए लेकिन पुलिस कोई सजगता दिखाना तो दूर उस गांव तक नहीं गई है।

Read More =====बिसौलीःसपा नेता गौरव साहनी ने भगवान परशुराम पर की अभद्र टिप्पणी, पुलिस को तहरीर दी

(Visited 1,012 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here