वाराणसी: ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में शिवलिंग मिला, कोर्ट ने स्थान को सील कराया

0
385

सोमवार को बनारस के ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में सर्वे के दौरान वुजूखाने में शिवलिंग मिला है। इसके बाद वकील कमिश्नर हरीशंकर जैन के आवेदन पर न्यायालय सिविल जज सीडि वाराणसी ने उस स्थान को सील करने का आदेश दिया है।
मामला यूपी के वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के कमीशन का है। इस कमीशन के दौरान इसी परिसर में एक कुंआ है जिसमें वुजू का पानी जाता है उस स्थान पर शिवलिंग मिला है। यह मिलते ही सर्वे का काम भी पूरा हो गया। इसके बाद कमिश्नर अधिवक्ता हरीशंकर जैन न्यायालय सिविल जज सीडि वाराणसी पहुंचे उन्होंने न्यायालय में एक प्रार्थना पत्र देकर उस स्थान की सुरक्षा की मांग की। इस पर न्यायालय ने तत्काल ही इस स्थान के संरक्षण का आदेश जिलाधिकारी वाराणसी, पुलिस कमिश्नर, सीआरपीएफ कमाण्डेन्ट को तत्काल ही पूरे स्थान की सुरक्षा व संरक्षण का आदेश दिया। इसके साथ ही यह भी आदेश दिया। इस सबकी जिम्मेदारी इन अधिकारियों को व्यक्तिग तौर पर उठानी होगी।
प्रवेश वर्जित
जिस स्थान पर यह शिवलिंग मिला है उस स्थान पर किसी का भी प्रवेश पूर्ण रूप से वर्जित कर दिया गया है।चूंकि यह शिवलिंग मस्जिद एरिया में मिला है इसलिए इस जगह पर मुसलमान भी अधिक संख्या मे ंना जाऐं। इसके साथ ही केवल 20 मुसलमानों को नमाज अदा करने की अनुमति दी गई है। ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में मुसलमानों को वुजू करने से भी रोक दिया गया है। अदालत के आदेश का किसी भी तरह का उल्लंघन होने पर अधिकारी व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेदार माने जाऐंगे।

Read More =======थाना फैजगंज बेहटा:अपहृत लडकी बरामदगी ना होने से नाराज ग्रामीणों एमएफ हाईवे किया जाम
केशव प्रसाद मौर्य बोले मैं खुश हूं।
ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में शिवलिंग मिलने के बाद यूपी के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसार मौर्य ने ट्वीट कर कहा है कि बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर ज्ञानवापी परिसर में बाबा महादेव के प्रकटीकरण ने देश की सनातन हिन्दू परंपरा को एक पौराणिक संदेश दिया है।
हिंदू पक्ष का दावा हुआ प्रभावी
यहंा बता दें कि इस कमीशन के बाद जो वस्तु स्थिति सामने आई है उससे हिन्दू पक्ष को अपना दावा सिद्ध करने में बल मिलेगा। यहां बता दें कि सर्वे टीम जब सर्वे कर रही थी तब उसने देखा कि एक स्थान पर पानी भरा हुआ हैं तब टीम ने उस स्थान का पानी निकलवाया गया। तब उस स्थान पर साफ सफाई के बाद वहां पर शिवलिंग मिला है। जिस जगह शिवलिंग मिला है वहां बेहद ही गंदगी थी व बडी ही दुर्दशा में शिवलिंग मिला है। चूंकि यह शिवलिंग नंदी के ठीक सामने मिला है इससे इस बात को बल मिला है कि जिस स्थान पर जिधर नंदी का मुंहुं होता है उस स्थान पर ही शिवलिंग होता है। शिवलिं लगभग 20 फिट ऊंचा है।

तहखाना नहीं…वो मंदिर मंडप है

हिंदू पक्ष का दावा है कि नंदी महाराज के सामने जो तहखाना है, उसी में अंदर मस्जिद के बीचों-बीच आज भी शिवलिंग दबा है।  इस विशालकाय शिवलिंग का रंग हरा है। वहीं अरघा भी काफी बड़ा है। विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत डॉ. कुलपति तिवारी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद में जिसे तहखाना कहा जा रहा है वह असलियत में मंदिर मंडपम है। आगे कहा कि जो लोग भी ज्ञानवापी में तहखानों की बात कर रहे हैं, वे सभी मंडपम हैं। इन्हें तहखाना के बजाय मंडपम कहें तो बेहतर होगा

Read More =======बिसौली: नगर में धूमधाम से निकली भगवान परशुराम शोभा यात्रा, पुष्प वर्षा के साथ जगह जगह स्वागत

(Visited 250 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here