उपमुख्यमंत्री: संवैधानिक पद नहीं फिर भी बनते हैं, क्या होते हैं अधिकार

0
597
deputy cm

उपमुख्यमंत्री deputy-chief-minister या उप प्रधानमंत्री जैसा कोई भी पद हमारे संविधान में नहीं है लेकिन राजनैतिक मजबूरियों के तहत यह पद बनाए जाते हैं। इन पदों पर निुयक्तियां भी होती हैं। इस बार भी यूपी सरकार मे केशव प्रसाद मौर्य व बृजेश पाठक को उपमुख्यमंत्री बनाया गया है। इसके साथ ही अन्य केबिनेट व राज्यमंत्री बनाए गए हैं।
यहां बता दें कि भारत के संविधान के अनुसार अनुच्छेद 164 के अंतर्गत प्रदेश का राज्यपाल मुख्यमंत्री की नियुक्ति करता है। इसके बाद मुख्यमंत्री की सलाह से अन्य मंत्रियों की नियुक्ति करता हैं। ऐसा नहीं है कि राज्यपाल किसी को भी मुख्यमंत्री नियुक्त कर सकता है इसके लिए विधायक दल के नेता को ही मुख्यमंत्री चुना जाता है। फिर मुख्यमंत्री की सलाह से अन्य मंत्रियों की नियुक्ति होती है। यहंा महत्वपूर्ण बात यह है कि भारत के संविधान में मुख्यमंत्री केबिनेट मंत्री, राज्य मंत्रियों की नियुक्ति की व्यवस्था है लेकिन उपमुख्यमंत्री deputy-chief-minister की केाई व्यवस्था नहीं है। लेकिन राजनैतिक मजबूरियों के तहत राजनैतिक पार्टियां उपमुख्यमंत्री जैसे पद की नियुक्ति करती हैं।
केबिनेट मंत्री के ही अधिकार
उपमुख्यमंत्री deputy-chief-minister को केवल राजनैतिक हैसियत दिखाने को ही नियुक्त किया जाता है। वैसे वह केबिनेट मंत्री ही होता है। उपमुख्यमंत्री को सारे अधिकार केवल केबिनेट मंत्री के ही होते हैं। इसके अधिक अधिकार नहीं दिए जा सकते हैं। ना ही मिलते हैं। केवल राजनैतिक कद बडा दिखाई देता है। केबिनेट मंत्री की तरह ही उपमुख्यमंत्री को दोनों सदनों में से किसी एक सदन का सदस्य होना अनिवार्य है।
राजनैतिक मजबूरियां
वर्ष 2017 में जब भाजपा सरकार बनी थी उस समय केशव प्रसाद मौर्य प्रदेश अध्यक्ष थे। इसके साथ ही वह सरकार बनने की स्थिति में मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। लेकिन परिस्थितिवश पार्टी को योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाना पडा। उन्हें संतुष्ट करने के लिए सरकार ने उपमुख्यमंत्री बना दिया इसके बाद जातिगत संतुलन बनाने के लिए दिनेश शर्मा को भी उपमुख्यमंत्री के पद से नवाज दियां। इस बार नई सरकार बनने पर भी कुछ ऐसी ही परिस्थितियां बनीं जिस कारण से सरकार को केशव प्रसाद मौर्य को दोबारा से उपमुख्यमंत्री बनाना पडा जबकि दिनेश शर्मा के स्थान पर बृजेश पाठक को उपमुख्यमंत्री बनाया गया।
वैसे केंद्र में भी ऐसी व्यवस्था रही हैं। चैधरी देवीलाल उपप्रधानमंत्री बनने के साथ ही भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाडी भी उपप्रधानमंत्री रह चुके हैं।

(Visited 229 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here