आनर किलिंग: कप्तान साहब बिसौली पुलिस सक्रियता दिखाती तो शायद दिनेश नहीं मरता

0
405

आनर किलिंग में दिनेश की हत्या की बात खुल जाने के बाद केस तो खुल गया दो मुल्जिम जेल भी चले गए लेकिन दिनेश की हत्या अपने पीछे कई सवाल छोड गई जो पुलिस की लापरवाही, काम के प्रति निश्क्रियता व मनमानी को स्पष्ट रूप से प्रदर्शित करते हैं।
यहंा बता दें कि यूपी के बदायूं जनपद की बिसौली कोतवाली के गांव कोट निवासी युवक दिनेश का बिल्सी थाना क्षेत्र के गांव अंगोला, नगरिया की एक युवती से प्रेम प्रसंग था। इसी प्रेम प्रसंग में दोनों ने साथ जीने मरने की कसमें भी खाईं थीं। चूंकि दोनों ही अलग अलग जाति के थे इसलिए युवती के परिजन इस शादी को सहमत नहीं थे। इसी कारण से युवती के परिजनों ने युवती का विवाह तय कर दिया था। लेकिन युवती विवाह करने को सहमत नहीं थी इसीलिए युवती ने बीती 10 मई को दिनेश को फोन कर बुलाया था। इसके बाद युवक दिनेश जब युवती से मिलने गया। उसके बाद से युवक को फोन बंद हो गया। फोन पर घर वाले बार बार फोन करते रहे लेकिन युवक से कोई संपर्क नहीं हो सका। इसके बाद घर वाले अगले दिन 11 मई को थाना कोतवाली बिसौली गए जहां उन्होंने दिनेश के अपहरण की आशंका जताते हुए पूरी कहानी लिखते हुए पुलिस को तहरीर दी।

Read More ====थाना फैजगंजबेहटा: ट्राली की चोरी, पीछा करने पर मालिक की हत्या का प्रयास

लेकिन कप्तान साहब आपकी पुलिस ने यह कहते हुए उसकी तहरीर लेने से इंकार कर दिया कि अभी और ढंूढ लो तब फिर आना जबकि रवेन्द्र ने अपनी तहरीर में उस लडकी का फोन नंबर भी लिखा था जिस नंबर से फोन कर दिनेश को बुलाया गया था। इसके बाद पुलिस ने 12 मई को भी कोई कारवाई नहीं की। इसके बाद 13 मई को बिसौली पुलिस ने दिनेश के पिता रवेंद्र की तहरीर बदलवा कर गुमशुदगी दर्ज की। लेकिन पुलिस ने पिता की तहरीर के अनुसार अपहरण का मुकदमा दर्ज नहीं किया। कप्तान साहब पुलिस को अपहरण का मुकदमा दर्ज करना चाहिए था। लेकिन नहीं किया।इसके बाद इस मामले को अमर भास्कर डाट काम ने प्रमुखता से प्रकाशित किया तब पुलिस ने हरकत की, एवं पुलिस को जब कुछ सुराग मिले तब पुलिस ने 19 मई को स्वयं ही दिनेश के पिता रवेंद्र को बुलाकर तहरीर लिखवाई एंव अपहरण का मुकदमा दर्ज कर लिया। वो क्या कारण था जब 13 मई को गुमशुदगी दर्ज की गई जबकि 19 मई को अपहरण का मुकदमा दर्ज किया गया।

Read More ====बिसौलीः आनर किलिंग में चाचा ने भतीजी के आशिक को मौत के घाट उतारा

इसके बाद अगले दिन पुलिस ने लाश भी बरामद कर ली। संदेह इस बात में भी है कि पुलिस के द्वारा अपहरण का मुकदमा दर्ज होने के 24 घंटे के अंदर ही लाश भी बरामद हो गई। यहंा पुलिस की भूमिका साफ दिखाई नहीं दे रही है। इसके साथ ही अगर नियम की बात की जाए तब अगर पुलिस ने 11 तारीख को ही अगर अपहरण का मुकदमा दर्ज कर लिया होता एवं पुलिस ने सक्रियता दिखाई होती तब शायद दिनेश जीवित भी मिल सकता था। भले ही रामाबाबू का बयान यह बताया जा रहा हो कि दस मई को ही दिनेश की हत्या कर दी गई थी लेकिन अंगोल गांव से जुडे सूत्र बताते हैं दिनेश की हत्या दो या तीन दिन बाद की गई थी। अगर पुलिस ने सक्रियता दिखाई होती तब शायद आज दिनेश जीवित होता।

Read More ====योगी जी बदायूं के जिला अस्पताल में सिटी मजिस्ट्रेट की बेटी तक को नहीं मिला इलाज, डीएम से की शिकायत

(Visited 515 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here