दरोगा को धमकाने वाले भाजयुमो नेताओं पर मुकदमा दर्ज

0
1398
थाना बिसौली क्षेत्र के
बिसौली में दरोगा ने दी

योगी सरकार बनने के बाद बिना अनुमति जुलूस निकालने की जिद पर अडे व दरोगा को तबादला कराने की धमकी देने वाले भाजयुमो बिसौली के पूर्व नगर अध्यक्ष अमित पंडित व भाजयुमो के वर्तमान नगर महामंत्री नितिन मिश्रा ’छोटा मोदी’ पर कोतवाली पुलिस ने दरोगा की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया है।
यहंा बता दें कि योगी सरकार के शपथग्रहण से एक दिन पहले बिसौली कोतवाली के दरोगा सोवीर ंिसह को एक फोन किया गया जिसमें फोन करने वाले ने अपना नाम अमित पंडित बताया था। उसने कहा था कि कल शपथग्रहण के बाद नगर में जुलूस निकाला जाएगा। तब दरोगा ने जुलूस के लिए परमीशन की बात कही थी। इसके बाद भी ज बवह नहीं माना तब दरोगा ने कहा कि एसडीएम से परमीशन लेकर जुलूस निकाल लीजिए। इस पर नेता ने एसडीएम पर भी अभद्र टिप्पणी की थी। नेता ने कहा हम शासन हैं जुलूस अवश्यक निकालेंगे। दरोगा को हटवाने की धमकी भी दी। इसका ओडियो मंगलवार को वायरल हो गया। यह ओडियो एक अखबार की वेबसाईट पर सबसे अधिक सुना गया। ओडियो वायरल होने के बाद पुलिस के अधिकारी हरकत में आ गए व मामले की जांच शुरू कर दी। जांच में एक अहम तथ्य सामने आया कि फोन करने वाले ने अपना नाम अमित पंडित बताया था लेकिन फोन भाजयुमो नगर महामंत्री नितिन मिश्रा छोटा मोदी के फोन नंबर से किया गया था। ओडियो वायरल होने के बाद से ही इस बात का अंदाजा लगाया जा रहा था कि इस मामले में मुकदमा दर्ज हो सकता है।student arrested
दरोगा ने क्यों वायरल किया ओडियो
यहंा महत्वपूर्ण बात यह है कि दरोगा सोवीर सिंह ने आडियो इतने दिन बाद क्यों वायरल किया। इसके साथ ही दरोगा को मुकदमा लिखवाने के लिए ओडियो वायरल करना पडा। अगर दरोगा को मुकदमा लिखवाने के लिए ओडियो वायरल करना पड रहा है तो आम आदमी को मुकदमा लिखवाने के लिए कितने पापड बेलने पडते होंगे। क्या पुलिस इतनी मजबूर है कि उसे मुकदमा लिखवाने के लिए ओडियो वायरल करना पड रहा है? इस मामले में जांच का विषय यह भी है कि दरोगा फोन सुनने के तुरंत बाद भी मुकदमा लिखवा सकता था लेकिन दरोगा ने एक सप्ताह बाद ओडियो वायरल करके पुलिस विभाग की छीछा लेदर करवाने के साथ ही सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी का भी तमाशा बना दिया। यहां जांच का एक विषय और भी हो सकता है कि अगर दरोगा ने ओडियो वायरल नहीं किया तब वह कौन था जो ओडियो वायरल कर मुकदमा लिखवाकर पुलिस विभाग व भाजपा दोनों का तमाशा बनाना चाहता था। इस मामले में दरोगा सोवीर सिंह ने कुछ सूत्रों से कहा कि ओडियो मैंने वायरल नहीं किया है अब प्रश्न है कि अगर ओडियो सोवीर सिंह ने वायरल नहीं किया तब यह ओडियो किसने वायरल किया। ओडियो वायरल करने वाले ने उनकी अनुमति से फोन से निकाला था या फिर चोरी से निकाल कर वायरल किया था। इन महत्वपूर्ण बातों पर भी जांच होनी आवश्यक है। ताकि समाज में पुलिस विभाग की छवि धूमिल होने से बच सके।

(Visited 878 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here