कांग्रेस प्रत्याशी का चुनाव हारने वाली रात हुआ गैंग रेप

0
773

बसपा का टिकिट ना मिलने पर बसपा नेता पर 67 लाख रूपए लेने के बावजूद भी टिकिट ना दिलवाने का आरोप लगाने वाले अरशद राणा की पत्नी ने पति समेंत कई रिश्तेदारों पर गैंग रेप का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई है। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।
यहंा बता दें कि मुजफ्फरनगर की चरथावल विधानसभा से चुनाव लडने वाली कांग्रेस नेत्री ने पति अरशद राणा पर आरोप लगाया है कि जिस दिन वाटों की गिनती हुई थी गिनती के बाद जब वह घर पहुंची तब उसे पति द्वारा एक मकान में बंधक बना लिया गया था। इसके बाद उसका गैंगरेप कराया गया। पीडिता ने इसके बाद बताया कि उसने पुलिस के लिए 112 नंबर पर फोन किया। लेकिन फोन नहीं मिला इसके बाद सिविल लाइन पुलिस को फोन किया। तब केवल वहां से एक महिला सिपाही ही आई। जिसने पीडिता को उन लोगों से बडी मुश्किल से छुडवाया इसके बाद वह उसे थाने ले आई। पीडिता का कहना है कि उसने थाने आकर तहरीर दी व धमकी दी कि अगर मुझे न्याय नहीं मिला तो फांसी लगाकर जान दे दूंगी।charthaval
पीडिता का यह भी आरोप है कि मेरे पति अराशद राणा ने मेरा उल्टा सीधा वीडियो भी बना लिया है। वह यह वीडियो अधिकारियों को भी दिखा रहा है जिस पर अधिकारी कारवाई करने के बजाए हंस रहे हैं। इससे मुझे बेहद शर्म आती है। पीडिता ने अरशद के साथ ही उसके मामा शहजाद व उसके ड्राईवर को भी नामजद आरोपी बनाया है। उसने धमकी दी है कि अगर मुझे न्याय नहीं मिला तो मैं मर जाऊंगी।
इस मामले में मुजफ्फर नगर सीओ सिटी कुलदीप कुमार ने बताया कि अरशद राणा व उसके कुछ सहयोगियांे के खिलाफ गैंग रेप व मारपीट की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। कानून सम्मत कारवाई की जा रही है। दोषियों का बख्शा नहीं जाएगा।
इस मामले में अरशद राणा का कहना है कि मेरी दो पत्नियां हैं उनमें से एक को कांग्रेस का टिकिट मिला मैंने उसे चुनाव लडवाया। मैं चाहता तो दूसरी पत्नी को चुनाव लडा सकता था। यह चाहती है कि मैं चैबीस घंटे उसी के साथ रहूं। अरशद ने कहा कि ’’ मैं चुनाव हारने के बाद घर गया तो मैंने अपनी मिसेज के साथ खाना खाया, मैंने उनसे कहा कि अब घर कैसे चलाया जाए, अब आप अपने काम पर ध्यान दो और मैं अपने काम पर ध्यान देता हूं, इसके बाद मैं सुबह उठकर नमाज पढकर जैसे ही घर आया उन्होंने मेरे साथ मारपीट शुरू कर दी।mujaffarnagar मैं अपने गनर के साथ मोटरसाईकिल से जान बचाकर भागा। मैंने इस घटना के बाद घर की इज्जत बचाने के लिए कोई कारवाई नहीं की। फिर मैंने अपने मामा शहजाद को पत्नी के पास भेजा ज बवह नहीं मानी तब मैंने मामा को वापस बुला लिया। जब मैं घर से अपनी फार्चूनर गाडी लेने गया तब मेरी गाडी के पीछे भाग पडी। उसने पहले आरोप लगाया कि अरशद मेरे 105000 रू लेकर भाग गया। उसके बाद उसने सिविल लाईंस थाना फोन किया व कहा कि मुझे बंधक बना लिया गया है। आरोप सरासर गलत हैं। मैंने सभी सबूत कप्तान साहब को दे दिए हैं कप्तान साहब ने निष्पक्ष जांच का आश्वासन दिया है।

(Visited 261 times, 1 visits today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here